Wednesday, September 25, 2013

बस यूँ ही

बस यूँ ही चाँद को तकते रहना चाहूँ
बस यूँ ही तारों को टिमटिमाता  देखना चाहूँ
बस यूँ ही समन्दर किनारे लहरों के आगोश में बैठना चाहूँ

बस यूँ ही हवा के झोंको में खुद को समेटना चाहूँ

बस यूँ ही बडबडाना चाहूँ इस शोर में
बस यूँ ही खो जाना चाहूँ इस भीड़ में
बस यूँ ही सहेजना  चाहूँ अपनी यादों की टोकरी
बस यूँ ही सहलाना चाहूँ वो खोई मासूमियत


बस यूँ ही जाना चाहूँ अपनों के बीच
बस यूँ ही हँसना चाहूँ पेट पकड़ के
बस यूँ ही रोकना चाहूँ चीटियों का रास्ता 
बस यूँ ही चाहूँ छिपकली से नैन लड़ाना


बस यूँ ही निहारना चाहूँ नीला आसमान
बस यूँ ही चलना चाहूँ अनजान डगर 
बस यूँ ही मग्न होना चाहूँ रात की चुप्पी में
बस यूँ ही गुम होना चाहूँ दिन के उजियारे में

 
बस यूँ ही बने रहना चाहूँ मनमौजी
बस यूँ ही चलना चाहूँ अपनी राह   
बस यूँ ही रंगना चाहूँ सफ़ेद काग़ज
बस यूँ ही हवा  में गुमाना चाहूँ कलम


बस यूँ ही जीना चाहूँ जी भर के
बस यूँ ही चाहूँ मौत के आगोश में चैन से सोना

बस यूँ ही जाना चाहूँ दूर देश
बस यूँ ही पकड़ लेना चाहूँ सूरज को अपनी मुट्ठी में

बस यूँ ही गाँव में चबूतरे पे बैठ सुनना चाहूँ परियों की कहानियाँ
बस यूँ ही चाहूँ  इमली के पेड़ पे चढ़ना
बस यूँ ही भागना चाहूँ रेलगाड़ी के पीछे 
बस यूँ ही पकड़ना चाहूँ खुद की परछाई
बस यूँ ही उड़ना चाहूँ चिरैया संग


बस यूँ ही बस यूँ ही |


Hioy'oy Hoi Polloi
JJJ

10 comments:

  1. Wow Surbhi, this is an extraordinary poem,. On the one hand it is poignant with words like 'Maut ki agosh me jeena chahun' and the next moment you wish 'chipkali se ankh ladhana'. Really enjoyed reading it.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank-you so much Granny for your applauding words. :)

      Delete
  2. Surbhi,I am unable to comment in Hindi,but,this is an awesome poem

    ReplyDelete
  3. very nice poem mam... after long time here its awesome

    ReplyDelete
  4. its always a pleasure to read your blog !! nice Poem :)

    ReplyDelete
  5. Nice poem Shizuka :)

    ReplyDelete
  6. बस यूँ ही तेरे इन शब्दों को तकना चाहूँ,
    बस यूँ ही इनकी गहराइयों में खो जाना चाहूँ ।।

    just fab.. its like i am visualizing every bit of my dream.. loved it :*

    ReplyDelete

Don't leave before leaving your words here. I will count on your imprints in my blogspace. :)