ठंडी बयार


करनी थी बहुत बातें
कहने थे कुछ राज़
रह गई सब अनसुनी
रह गई सब अनकही

थोड़ी सी मोहलत थी
थोड़ी सी मुहब्बत थी
एक ठंडी बयार ने
ठंडा कर दिया उन्हें
चले गए वो दूर देश
छिप गए किसी अँधेरे कोने में

पर चाँद की आस में अभी भी कोई चकोर है
चांदनी अभी भी उसकी छाँव है
तारे अभी भी टिमटिमा रहे है
रौशनी उनके साथ है
बस हम ही हताश है
बदहवास अशांत है

किससे कहे जो कहना चाहते थे
शायद अब चुप्पी से ही बतियाना चाहे
शायद खुद को खुद का इंतज़ार है
खुद ही सुन लेंगे अनसुनी कहानी
खुस से ही कह देंगे अनकही दास्ताँ

शायद यही हमारी पहचान है
खुले आस्मां के तले हम खड़े
न जाने किसके इंतज़ार में
शायद उसी ठंडी बयार के
जो हमे भी ठंडा कर सके |

Hioy'oy Hoi Polloi
JJJ
 

Comments

  1. ..........................................................................................................................

    ReplyDelete
  2. waha waha awesome every word have meaning... feeling thandi bahar when read this keep writing

    ReplyDelete
  3. A post from after a long gap.
    Beautiful lines these are

    ReplyDelete

Post a Comment

Don't leave before leaving your words here. I will count on your imprints in my blogspace. :)